यह आदमी रेत में कैसे तैर रहा है?

दोस्तों पानी का Swimming Pool तो आपने जरूर देखा होंगा। पानी में तैरता इंसान भी देखा होगा। लेकिन क्या आपने रेत का Swimming Pool देखा है? और उससे भी बड़ी बात, क्या आपने रेत में किसी इंसान को तैरते हुए देखा है?

MastFacts-Sand-Fluidization-in-hindi
img: youtube/markrober

अगर नहीं तो निचे दी हुई विडियो में आप देख सकते है। यह विडियो Mark Rober नाम के Youtube channel द्वारा अपलोड किया है। इसके बाद मैं आपको रेत में तैरने के पीछे का कारण बताऊंगा।

youtube.com/markrober

ऊपर दी हुई विडियो में एक इंसान सख्त रेत के ऊपर बैठा हुआ है। लेकिन कुछ ही देर बाद ऐसा क्या हुआ की यह रेत चुटकी बजाते ही यह रेत तरल यानी liquid में बदल गई। और इस रेत में ये इंसान लगभग डूब भी गया।

क्या लगता है, यह व्यक्ति रेत में कैसे तैर रहा है? नहीं पता? तो चलिए मैं बताता हूँ।

दरअसल दोस्तों, रेत के कणों के बिच में काफी बड़े पैमाने पर घर्षण यानी Friction मोजूद होता है। जिसकी वजह से रेत के अणु यानी Molecule आजादी से नहीं घूम सकते। परिणामस्वरूप, अगर आप रेत के ऊपर किसी भी वस्तू को फेकते है तो वह वस्तू रेत की उपरी सतह के कुछ सेंटीमीटर अन्दर तक ही जा पाती है।

रेत का द्रवण (Sand Fluidization in Hindi)

यदि रेत को किसी बड़े से टब या पोंड में भरकर उसको नीचे से समान और स्थिरता के साथ वायू प्रवाह यानी हवा दी जाए तो वह वायू प्रवाह रेत के कणों को ऊपर की तरफ ढकेलना शुरू कर देता है, जिसकी वजह से रेत के कणों के बीच घर्षण काफी कम हो जाता है।

घर्षण कम होने की वजह से रेत के अणु ज्यादा दूरी तक आसानी से ट्रेवल करने लगते है। और यह movement ठीक वैसे ही होता है जैसे पानी के अणुओं के बीच में होता है। परिणामस्वरूप, रेत बिलकुल ही liquid की तरह प्रतिक्रिया करना शुरू कर देती है जिसे वैज्ञानिक भाषा में रेत का द्रवण यानी Sand Fluidization के नाम से जाना जाता है।

Sand Fluidization की स्थिति में यदि रेत में कोई भी वस्तु डाली जाती है तो वह पानी की ही तरह रेत में डूब कर उसकी तली तक पहुच जाती है।

तो अब आप जान ही गए होंगे की यह व्यक्ति रेत में कैसे तैर पा रहा है।

यह भी पढ़ें:
बारिश के बाद मिट्टी से खुशबू क्यूँ आती है?
ट्रेन की पटरी पर जंग क्यूँ नहीं लगता?
खून चूसने वाली जोंक नमक डालने पर मर क्यों जाती है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *